ऐसे करें जबरदस्त मुनाफेदार गेहूं की खेती – बुआई, सिंचाई, रोग, पैदावार Gehu ki Kheti Hindi

Google News

Follow Us

Wheat Farming: नमस्कार किसान भाईयों!! दुनिया भर की खाद्य फसलों की श्रेणी में, गेहूं की खेती (Gehu ki Kheti) ने अपनी जगह बना ली है। भारत में, चावल के बाद यह उत्पादन में सबसे महत्वपूर्ण फसल है, और देश की खाद्य उत्पादन में गेंहू की खेती का महत्वपूर्ण 25% का हिस्सा है। पिछले कुछ वर्षों में गेहूँ की खेती ने देश में खाद्य उत्पादन को स्थिर करने में अहम भूमिका निभाई है।

गेहूँ की फसल वैसे तो मध्य पूर्व के लेवांत क्षेत्र से आई एक प्रकार की घास है, और गेहूँ की खेती (Wheat Crop Farming) दुनिया भर में होती है। विश्व भर में, भोजन के लिए उगाई जाने वाली अनाज फसलों में मक्का के बाद गेहूँ दूसरी सबसे ज्यादा उगाई जाने वाली फसल है, और यह वृद्धि गेहूँ की उन्नत खेती और वैज्ञानिक अनुसंधान से हो रही है। भारत, केरल, मणिपुर व नागालैंड छोड़ कर, अन्य सभी राज्यों में गेहूँ की खेती होती है, और उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश व पंजाब इसमें आगे रहते हैं।

भारतीय गेंहू के प्रकार Classification of Indian Wheat Farming

भारत में गेहूं की खेती मुख्य रूप से 3 प्रकार की भूमि के लिए की जाती है जिसमे सिंचित भूमि, असिंचित भूमि और ऊसर या बंजर भूमि शामिल है। अगर भारत में होने वाले गेंहू के प्रकार की बात की जाए तो ये मुख्यत 3 प्रकार के होते हैं

1. खपली गेहूं (Emmer Wheat)

खपली गेहूं की खेती प्रमुख रूप से भारत के दक्षिणी क्षेत्रों में की जाती है, जैसे महाराष्ट्र, तमिलनाडु, और कर्नाटक। माना जाता है कि इस प्रजाति के विकास का प्रारंभ टी. डिकोइड्स कोरू के पास, एक जंगली प्राकृतिक रूप से हुआ था। यह गेंहू की फसल भारत अलावा स्पेन, इटली, जर्मनी, और रूस में भी बोए जाते हैं।

भारत विश्व के सबसे बड़े खपली गेहूं उत्पादक के रूप में अग्रणी भूमिका निभाता है, जिसे सांबा, एम्मर, या डायबिटिक गेहूं के नाम से भी जाना जाता है। यह भारत में उपलब्ध सबसे उच्च गुणवत्ता वाले गेहूं के प्रकारों में से एक है।

2. ड्यूरम या मैक्रोनी गेहूं (Macroni Wheat)

ड्यूरम गेहूं की खेती, जिसे अक्सर पास्ता गेहूं या मैकरोनी गेहूं के रूप में जाना जाता है। यह भारत में स्थिति या पंजाब, मध्य प्रदेश, कर्नाटक, तमिलनाडु, गुजरात, पश्चिम बंगाल और हिमाचल प्रदेश आदि क्षेत्रों में उगाया जाता है। यह भारत में सर्वोत्तम गुणवत्ता वाली गेहूं की किस्मों में से एक है।

इसलिए क्योंकि मोटे गेहूं के दानों को पीसकर सूजी बनाई जाती है, जिसे बाद में पास्ता, नूडल्स, मैकरोनी, और अन्य उत्पादों का आकार दिया जाता है। इसमें उच्च ग्लूटेन सामग्री और सामान्य ब्रेड गेहूं के समान पोषण संबंधी प्रोफ़ाइल है। हालांकि, ड्यूरम गेहूं का आटा रोटी बनाने के लिए उपयुक्त नहीं है क्योंकि इसमें किण्वन और फूलने के लिए पर्याप्त स्टार्च की कमी होती है।

3. रोटी गेंहू या बौना गेंहू (Bread Wheat)

यह दुनिया भर में सबसे आम गेहूं की किस्म है, और इसमें अधिक प्रोटीन होता है। इसका उपयोग चपाती बनाने के लिए किया जाता है। इसके गोल और छोटे दानों की वजह से, यह भारत में चपाती बनाने के लिए सबसे अच्छा है।

इसका नाम भारतीय बौना गेहूं है और यह भारत में बड़ी मात्रा मे इसकी खेती पंजाब, उत्तर प्रदेश, एमपी, बिहार और राजस्थान में की जाती है। जब इसका रंग संयुक्त राज्य अमेरिका में उगाए गए गेहूं से मिलता है, तो इसका रंग हलका होता है और इसका स्वाद हलका होता है। दूसरी ओर, इसकी पोषण विशेषता में कोई खास अंतर नहीं होता है।

यह भी देखेंऐसे करें जबरदस्त मुनाफेदार जौ की खेती पूरी जानकारी- बुवाई, किस्में, उर्वरक, पैदावार Jau ki kheti

गेहूं की खेती के लिए जलवायु और मिट्टी Weather and Soil for Indian Wheat Farming

गेहूँ की खेती के लिए सही मौसम का होना बहुत जरूरी होता है। जो कि किसान गेहूँ की खेती करते हैं, इसकी बुआई के समय, तापमान को 20-25 डिग्री सेल्सियस आवश्यक होता है। गेहूँ की खेती के लिए सींचाई का बहुत महत्व होता है, और इसके लिए सही प्रकार की भूमि का चयन करना बहुत जरूरी होता है।

सामान्य रूप से, गेहूँ की खेती के लिए चिकनी मिट्टी या नहरी मिट्टी भूमि को सबसे अच्छा माना जाता है, लेकिन गेहूँ की खेती भूमि के प्रकार जैसे कि बालू दोमट, भारी दोमट, मटियार, मार, और कावर भूमि में भी की जा सकती है। इसके आलावा, भूमि की प्रकृति और पानी के सोखने की क्षमता के आधार पर भी गेहूँ की खेती Gehu ki Kheti की जा सकती है।

गेहूं की खेती Gehu ki Kheti के लिए भूमि की तैयारी

अधिकांश किसान भाई धान की बुआई के बाद ही गेहूँ की बुआई करते हैं, इसलिए गेहूँ की बुआई में अक्सर देर हो जाती है। इसके लिए हमें पहले से यह तय कर लेना चाहिए कि खरीफ में कौन सी धान प्रजाति को बोएं और उसके बाद गेहूँ की कौन सी प्रजाति को बोएं।

गेहूँ की अच्छी उपज पाने के लिए धान की बुआई का समय से निश्चित समय से करना आवश्यक है, ताकि गेहूँ की खेती Gehu ki Kheti के लिए खेत अक्टूबर माह में खाली हो जाए। एक और बात ध्यान देने योग्य है कि धान की पौधों में लेवा के कारण भूमि कठोर हो जाती है।

गेहूं की खेती Gehu ki Kheti के लिए भारी भूमि में पहले मिट्टी पलटने वाले हल के बाद डिस्क हैरो से दो बार जुताई करके मिट्टी को भुरभुरी बनाना सही रहता है। डिस्क हैरो (तई) के प्रयोग से धान या पहले की गई फसल के अवशेष छोटे-छोटे टुकड़ों में कट जाते हैं, और इन्हें शीघ्र सड़ाने के लिए 15-20 किलोग्राम Nitrogen (यूरिया के रूप में) प्रति हेक्टर खेत को तैयार करते समय पहली जुटाई के साथ ही देना चाहिए। ट्रैक्टर चालित रोटावेटर के द्वारा एक ही जुटाई में खेत पूरी तरह से तैयार हो जाता है।

जहां सफेद चींटियों (दीमक) या अन्य कीटों की समस्या है, वहां आखिरी जुताई के बाद या पाटा लगाने से पहले मिट्टी में एल्ड्रिन 5% या बीएचसी 10% धूल 25 किग्राम प्रति हेक्टेयर की दर से मिलानी चाहिए। इस सही मात्रा में कीटनाशक का प्रयोग करने से कीटों का प्रबंधन संभव होता है और फसल को दीमक से बचाया जा सकता है। कीटनाशक का सही तरीके से प्रयोग करने के लिए किसानों को उपयुक्त दिशा और मार्गदर्शन प्राप्त करना चाहिए, ताकि वे समस्या को समाधान कर सकें।

गेहूं की बुआई के लिए उपयुक्त किस्में

गेहूं की बुआई के लिए उपयुक्त किस्में

गेहूं की खेती Gehu ki Kheti मे गेहूं की किस्म का चयन करने से पहले बहुत सारी बातों का ध्यान रखना जरूरी है। किसान भाई सबसे पहले अपनी मृदा के अनुसार और मौसम के अनुसार किस्म का चयन करे। बुआई से पहले इस बात का भी ध्यान रखा जाना चाहिए की आपकी खेती समय पर की जा रही है या देरी से की जा रही है।

जो किसान भाई किसी कारण से अपनी गेहूं की खेती की बुआई समय पर नही कर पाते उनके लिए अन्य किस्में भी उपलब्ध है जो नुकसान नही होने देती और समय पर तैययर हो जाती है। कुछ किस्में आपके क्षेत्र की मृदा और जलवायु के हिसाब से भी उन्नत फसलें देती है । किसान भाई अपने क्षेत्र के किसान सेवा केंद्र से इसकी अधिक जानकारी ले सकते हैं या अपने क्षेत्र के कृषि अधिकारी से भी मिलकर जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

यहाँ कुछ किस्मों की जानकारी आपको उदाहरण स्वरूप प्रदान की जा रही है।

समय पर बोई गई गेहूं की किस्में

किस्मबाली आने का समय (दिन)पकने का समय (दिन)उपज
क्विंटल/हेक्ट
.
एचडी 218960-65110-11530-35
मालविका65-70120-12525-30
एचडी-238055-60105-11030-35
एमएसीएस 249660-65110-11530-35
5 पूर्ण65-70110-11530-35

सिंचित देर से बोई जाने वाली गेहूँ की किस्में

किस्मबाली आने का समयपकने का समयउपज
कु./हे
सोनालिका55-6095-10025-30
AKW-38150-5590-9525-30
HI-97755-60100-10525-30
एचडी-250155-60100-10525-30
पूर्णा55-60100-10525-30

गेहूं की खेती की बुआई

गेंहूं की खेती की बुआई सही समय पर करनी बहुत जरूरी है। पिछेती बुआई से फसल की पैदावार पर बुरा असर पड़ता है। जब एक बार खेत तैययर हो और खेत मे नमी की उपयुक्त मात्रा हो तो गेहूं की बिजाई मे देर नही करें।

1. बुआई का समय

सामन्यात गेहूं की खेती Gehu ki Kheti की बुआई 25 अक्तूबर से नवंबर के महीने में पहले हफ्ते में की जाती है। देर से पकने वाली किस्मों की बुआई समय से अवश्य कर देना चाहिए अन्यथा उपज में कमी हो जाती है। जैसे-जैसे बुआई में विलम्ब होता जाता है, गेहूँ की पैदावार में गिरावट की दर बढती चली जाती है।

लंबी अवधि की गेहूं की बौनी किस्मों जैसे कल्याण-सोना, अर्जुन आदि के लिए नवंबर का पहला पखवाड़ा सही समय है और कम अवधि की बौनी किस्मों जैसे सोनालिका, राज 821 के लिए नवंबर का दूसरा पखवाड़ा बुआई का सही समय हो सकता है, लेकिन किसान भाई फसल की बुआई मे देरी बिल्कुल न करें।

2. गेहूं की बुआई में बीज दर

आम तौर पर गेहूं की खेती Gehu ki Kheti की बुआई लाइन में करने पर सामान्य दशा में 100 किग्रा. तथा मोटा दाना 125 किग्रा./ है. तथा छिडकाव बुआई की दशा में सामान्य दाना 125 किग्रा. मोटा-दाना 150 किग्रा./हे. की दर से प्रयोग करना चाहिए।

3. गेहूं की बुआई में पंक्ति में अंतर

सिंचाई वाले क्षेत्र मे समय पर बोए गए गेहूं के लिए, 2 पंक्ति के बीच 15 से 22.5 सेमी का अंतर बनाया जाता है, लेकिन पंक्तियों के बीच 22.5 सेमी का अंतर सबसे अच्छा माना जाता है। सिंचित लेकिन देर से बोई गई फसल परिस्थितियों में, कतार में 15-18 सेमी की दूरी सबसे उत्तम होती है। बौने गेहूं के लिए, रोपण (बुआई) की गहराई 5 से 6 सेमी के बीच होनी चाहिए। इस गहराई से अधिक रोपण करने पर परिणाम बिगड़ जाता है। पारंपरिक और लम्बी किस्मों के मामले में, बुआई की गहराई 8 या 9 सेमी तक हो सकती है।

4. गेंहूं की खेती Gehu ki Kheti में बीज उपचार

गेहूं की ढीली किस्मों के बीज को धूप मे सुखाकर या गर्म पानी से उपचारित किया जा सकता है। यदि गेहूं के बीज का उपयोग केवल बुआई के लिए किया जाता है, तो इसे वीटावैक्स से उपचारित किया जा सकता है। बुवाई के पहले गेहूं के बीज का बीज उपचार अवश्य करना चाहिए बीज शोधन के लिए बाविस्टिन, काबेन्डाजिम कि 2 ग्राम मात्रा प्रति कि०ग्रा० कि दर से बीज शोधित करके ही बीज की बुवाई करनी चाहिए।

फंगसनाशी/कीटनाशी दवाईमात्रा (प्रति किलोग्राम बीज)
Raxil2 gm
Thiram2 gm
Vitavax2 gm
Tebuconazole2 gm

गेहूं की खेती में खाद एवं उर्वरक का प्रयोग

किसान भाईयों, गेहूं की खेती Gehu ki Kheti में जमीन की जाँच के आधार पर ही उर्वरकों का प्रयोग करना चाहिए। बोने गेहूँ की बेहतर उपज के लिए, आपको खेत में मक्का, धान, ज्वार, और बाजरा की खरीफ फसलों के बाद भूमि में 150:60:40 किग्रा प्रति हेक्टेयर की मात्रा में और देरी से बोए गए गेहूं की फसल में 80:40:30 किग्रा प्रति हेक्टेयर की मात्रा में नाइट्रोजन, फॉस्फोरस, और पोटाश का उपयोग करना चाहिए।

आम स्थिति में, 120:60:40 किग्रा नाइट्रोजन, फॉस्फोरस, और पोटाश का साथ में और 30 किग्रा गंधक प्रति हेक्टेयर की मात्रा का उपयोग फायदेमंद साबित होता है। जिन क्षेत्रों में डी.ए.पी. का प्रयोग नियमित रूप से किया जाता है, वहां 30 किग्रा गंधक का उपयोग लाभकारी रहेगा।

यदि खरीफ में धान फसलें बोई गई हैं, तो नाइट्रोजन की मात्रा को 20 किग्रा प्रति हेक्टेयर तक कम करें। गेहूं की खेती Gehu ki Kheti में अच्छी उपज के लिए, 60 कुंदल प्रति हेक्टेयर गोबर का उपयोग करें। यह भूमि की उपजाऊ शक्ति को बढ़ावा देने में मदद करता है। किसान भाइयों ध्यान दें कि गेहूँ के पौधों को सही तरह से गुड़ा़ई देने के लिए सही उर्वरकों का सही समय पर उपयोग करना महत्वपूर्ण है। इससे आपके खेत में पैदावार बढ़ी जा सकती है

किसान भाई सभी मंडियों के भाव यहाँ देखें

गेहूं की खेती Gehu ki Kheti में निराई गुड़ाई

आम तौर पर गेहूं की खेती Gehu ki Kheti में बुआई के डेढ़ से दो महीने बाद निराई-गुड़ाई की जाती है। खरपतवार को नियंत्रित करने के लिए खरपतवारनाशी का प्रयोग किया जाता है। किसी भी प्रकार की खरपतवार के प्रकोप से बचने के लिए किसान भाई अपने क्षेत्र के किसान सुविधा केंद्र से संपर्क अवश्य करें या अपने क्षेत्र के कृषि अधिकारी से भी परामर्श लें।

गेहूं की खेती में सिंचाई

गेहूं की खेती Gehu ki Kheti में अधिक उपज देने वाली गेहूं की किस्मों को उनके महत्वपूर्ण विकास चरणों में पांच से छह सिंचाई दी जानी चाहिए। सिंचाई की संख्या हमेशा मिट्टी की प्रकृति, पानी की उपलब्धता, और अन्य परिस्थितियों पर निर्भर होती है। सहायक जड़ें और बूंदों के निर्माण के समय नमी की कमी ना होने दें।

गेहूं की खेती Gehu ki Kheti में छोटे कद की अधिक उपज वाली किस्मों के लिए बीजाई से पहले सिंचाई करें। माटी की भारी प्रकृति के लिए 4 से 6 सिंचाइयों की आवश्यकता होती है, जबकि हल्की दोमट माटी के लिए 6 से 8 सिंचाइयों की आवश्यकता होती है। पानी की पूर्ति कम होने पर सिंचाई सिर्फ गंभीर अवस्थाओं में करें। जब पानी सिर्फ एक सिंचाई के लिए उपलब्ध हो, तो शुरुआती सहायक जड़ें बनाने के समय सिंचाई करें।

गेहूं की खेती Gehu ki Kheti में जब दो सिंचाइयां उपलब्ध हों, तो सहायक जड़ें बनाने के समय और फूल निकलने की अवस्था में सिंचाई करें। जब तीन सिंचाइयां संभव हों, तो पहली सिंचाई सहायक जड़ें बनाने के समय, दूसरी सिंचाई फूल निकलने की अवस्था में, और तीसरी सिंचाई दूध के दाने बनने के समय करें। शुरुआती सहायक जड़ें बनाने की अवस्था सिंचाई के लिए बहुत महत्वपूर्ण होती है।

यह पाया गया है कि शुरुआती सहायक जड़ें बनाने की अवस्था की पहली सिंचाई से लेकर हर सप्ताह की देरी से पैदावार में 83-125 किलो प्रति एकड़़ की कमी आती है। इसलिए, जब आप अपनी गेहूं की खेती Gehu ki Kheti के लिए सिंचाई योजना बनाते हैं, तो मिट्टी की प्रकृति, पानी की उपलब्धता, और फसल के प्रकार को मध्यस्थ के रूप में ध्यान में रखना महत्वपूर्ण है। गेहूं की खेती Gehu ki Kheti में सहायक जड़ें और सिंचाई के समय के लिए विचार करना बेहद आवश्यक होता है ताकि आप अच्छी उपज हासिल कर सकें।

  • पहली सिंचाई : क्राउन रूट-बुआई के 20 से 25 दिन बाद (ताजमुल अवस्था)
  • दूसरी सिंचाई : बुआई के 40 से 45 दिन पर (कल्ले निकलते समय)
  • तीसरी सिंचाई : बुआई के 60 से 65 दिन पर (दीर्घ संधि अथवा गांठे बनते समय)
  • चौथीं सिंचाई : बुआई के 80 से 85 दिन पर (पुष्पावस्था)
  • पाँचवी सिंचाई : बुआई के 100 से 105 दिन पर (दुग्धावस्था)
  • छठी सिंचाई : बुआई के 115 से 120 दिन पर (दाना भरते समय)

गेहूं की खेती में दोमट मिट्टी या भारी दोमट भूमि में चार सिंचाईयां करके भी गेहूं की खेती में अच्छी उपज प्राप्त की जा सकती है परन्तु प्रत्येक सिंचाई कुछ गहरी लगभग 8 सेमी. करें।

गेहूं की खेती Gehu ki Kheti में फसल के संरक्षण उपाय

गेहूं की खेती Gehu ki Kheti में फसल के संरक्षण उपाय

किसी भी फसल के संरक्षण के उपाय 3 प्रकार से किए जा सकते है, इसमे खरपतवार नियंत्रण, रोग नियंत्रण और कीट नियंत्रण प्रमुख है। आगे इस लेख मे हम इसी पर बात करेंगे।

1. खरपतवार नियंत्रण:

सामान्यत गेहूं की खेती में 2 प्रकार की खरपतवार होती है

  • सकरी पत्ती की खरपतवार : गेहूँसा एवं जंगली जई |
  • चौडी पत्ती की खरपतवार : बथुआ, चटरी-मटरी, अकरा-अकरी, सेंजी, कृष्णनील, हिरनखुरी, जंगली गाजर, ज्याजी, खरतुआ, सत्याशी आदि।

गेहूं की खेती में सकरी पत्ती की खरपतवार नियंत्रण के उपाय:

गेहूं की खेती Gehu ki Kheti में सकरी पत्ती की खरपतवार गेहूँसा एवं जंगली जई के नियंत्रण हेतु निम्नलिखित खरपतवार नाशी में से किसी एक रसायन की सही मात्रा को लगभग 500-600 लीटर पानी में घोलकर प्रति हेक्टेयर बुआई के 20-25 दिन के बाद फ्लैटफैन नाजिल से छिडकाव करना चाहिए | सल्फोसल्फ्यूरान हेतु पानी की मात्रा 300 लीटर से अधिक नहीं होनी चाहिए |

  • आइसोप्रोटयूरान 75 प्रतिशत डब्लू.पी. की 25 किलो ग्राम प्रति हेक्टेयर।
  • सल्फोसल्फ्यूरान 75 प्रतिशत डब्लू.जी. की 33 ग्राम (5 यूनिट) प्रति हेक्टेयर।
  • फिनोक्साप्राप–पी इथाइल 10 प्रतिशत ई.सी. की 1 लीटर प्रति हेक्टेयर।
  • क्लोडीनाफांप प्रोपैर्जिल 15 प्रतिशत डब्लू.पी. की 400 ग्राम प्रति हेक्टेयर।

गेहूं की खेती में चौडी पत्ती की खरपतवार नियंत्रण के उपाय:

गेहूं की खेती Gehu ki Kheti में चौड़ी पत्ती के खरपतवार बथुआ, सेंजी, चटरी–मटरी, अकरा-अकरी, कृष्णनील, हिरनखुरी, जंगली गाजर, गजरी, प्याजी, खरतुआ, सत्यानाशी आदि के नियंत्रण हेतु निम्नलिखित खरपतवार नाशी रसायनों में से किसी एक रसायन की सही मात्रा को लगभग 500-600 लीटर पानी में घोलकर प्रति हेक्टेयर बुआई के 25-30 दिन के बाद फ्लैटफैन नाजिल से छिडकाव करना चाहिए।

  • 2-4डी मिथाइल एमाइन साल्ट 58 प्रतिशत एस.एल. की 1.25 लीटर प्रति हेक्टेयर।
  • कर्फेंन्टाजॉन मिथाइल 40 प्रतिशत डी.एफ. की 50 ग्राम प्रति हेक्टेयर।
  • 2-4डी सोडियम साल्ट 80 प्रतिशत टेकनिकल की 625 ग्राम प्रति हेक्टेयर।
  • मेट सल्फ्यूरान इथाइल 20 प्रतिशत डब्लू.पी. की 20 ग्राम प्रति हेक्टेयर।

गेहूं की खेती में सकरी एवं चौड़ी पत्ती दोनों खरपतवार एकसाथ नियंत्रण के उपाय:

गेहूं की खेती Gehu ki Kheti में सकरी एवं चौड़ी पत्ती दोनों प्रकार के खरपतवारों के एक साथ नियंत्रण हेतु निम्नलिखित खरपतवारनाशी रसायनों में से किसी एक रसायन की सही और पर्याप्त मात्रा को लगभग 300 लीटर पानी में घोलकर प्रति हेक्टेयर फ्लैटफैन नाजिल से छिडकाव करना चाहिए मैट्रीब्युजिन हेतु पानी की मात्रा 500-600 लीटर प्रति हेक्टेयर होनी चाहिए

  • पेंडीमेथलीन 30 प्रतिशत ई.सी. की 30 लीटर प्रति हेक्टेयर बुआई के 3 दिन के अन्दर।
  • सल्फोसल्फ़यूरान 75 प्रतिशत डब्लू.पी. की 33 ग्राम (5 यूनिट) प्रति हेक्टेयर बुआई के 20-25 दिन के बाद।
  • मैट्रीब्युजिन 70 प्रतिशत डब्लू.पी. की 250 ग्राम प्रति हेक्टेयर बुआई के 20-25 दिन के बाद।
  • सल्फोसल्फ्यूरान 75 प्रतिशत + मेट सल्फोसल्फ्यूरान मिथाइल 5 प्रतिशत डब्लू.जी. 40 ग्राम (50 यूनिट) बुआई के 20 से 25 दिन बाद।
  • गेहूँ की फसल में खरपतवार नियंत्रण हेतु क्लोडीनोफाप 15 प्रतिशत डब्लू.पी. + मेट सल्फ्यूरान 1 प्रतिशत डब्लू.पी. की 400 ग्राम मात्रा प्रति हेक्टेयर की दर से 5 मिली. सर्फेकटेंट 375 लीटर पानी में घोलकर छिडकाव करना चाहिए।

2. गेहूं की खेती Gehu ki Kheti में प्रमुख कीट एवं रोग और उनका नियंत्रण:

गेहूं में बीमारियों, सुक्रमियों, और हानिकारक कीटों के कारण 5-10 प्रतिशत उपज का नुकसान हो सकता है, और दानों

और बीजों की गुणवत्ता पर भी बुरा असर पड़ सकता है। इससे किसानों की लागत बढ़ती है और उत्पादन में कमी होती है, जिससे उनकी आय पर भी असर पड़ता है। इसलिए, किसानों को बीजों की देखभाल करनी चाहिए और रोग प्रतिरोधी किस्मों का प्रयोग करना चाहिए।

गेहूं की फसल में पाए जाने वाले रोगों में पर्ण रतुआ, भूरा रतुआ, धारीदार रतुआ, पीला रतुआ, तना रतुआ, काला रतुआ, करनाल बंट, खुला कंडुआ, लूज स्मट, पर्ण झुलसा, लीफ ब्लाइट, चूर्णिल आसिता, पौदरी मिल्ड्यू, ध्वज कंड, फ्लैग समट, पहाड़ी बंट, हिल बंट, पाद विगलन, और फुट राँट जैसे रोग हो सकते हैं। इन सभी रोगों की रोकथाम के लिए उपायों की जानकारी नीचे दी गई है।

गेहूं की खेती में कांगियारी:

गेहूं की खेती Gehu ki Kheti में यह एक बीमारी है जो बीजों पर प्रभाव डालती है, और इसका प्रसार हवा के माध्यम से होता है। इस बीमारी के लिए बालियां बनने के समय निम्न तापमान और उचित नमी वाले मौसम का सामर्थ्य बढ़ा देते हैं।

इस बीमारी की रोकथाम के लिए 2.5 ग्राम कार्बोक्सिल (वीटावैक्स 75 डब्लयू पी प्रति किलोग्राम बीज), 2.5 कार्बेनडाजिम (बाविस्टिन 50 डब्लयू पी प्रति किलोग्राम बीज), और 1.25 ग्राम टैबुकोनाजोल (रैक्सिल 2 डी एस प्रति किलोग्राम बीज) का प्रयोग करना चाहिए।

यदि बीजों में बीमारी की मात्रा कम या दरमियानी हो, तो प्रति किलो बीज के लिए 4 ग्राम ट्राइकोडरमा विराइड प्रति किलो बीज और 1.25 ग्राम कार्बोक्सिन (विटावैक्स 75 डब्लयू पी) की आधी मात्रा का छिड़काव किया जा सकता है।

गेहूं की फसल को कांगियारी जैसी बीमारियों से बचाने के लिए उपयुक्त उपायों का अनुसरण करना अत्यंत महत्वपूर्ण है, ताकि किसान अच्छी उपज हासिल कर सकें।

गेहूं की खेती में सफेद धब्बे:

गेहूं की खेती Gehu ki Kheti में इस बीमारी के संकेत पत्तों, खोल, तने, और फूलों के भागों पर सफेद रंग की फंगस के दिखना शुरू हो जाते हैं, और बाद में इस फंगस ने काले धब्बों का रूप ले लिया। इसके परिणामस्वरूप पत्तियाँ और अन्य भाग सूखने लगते हैं, जिससे पौधों की स्वस्थता पर असर पड़ता है।

इस बीमारी के सामने आने पर, आप 2 ग्राम घुलनशील सल्फर को प्रति लीटर पानी में मिलाकर या 400 ग्राम कार्बेनडाजिम को प्रति एकड़ में छिड़काव कर सकते हैं। गंभीर हालात में, 2 मिलीलीटर प्रोपीकोनाजोल को प्रति लीटर पानी में मिलाकर स्प्रे करना भी एक विकल्प हो सकता है।

इन उपायों का पालन करके गेहूं की फसल को सफेद धब्बों जैसी बीमारियों से सुरक्षित रखा जा सकता है, और इससे किसानों की आय में भी सुधार हो सकता है।

गेहूं की खेती में भूरी कुंगी:

गेहूं की खेती Gehu ki Kheti में गर्म तापमान (15-30°C) और नमी वाले मौसम कारण होते हैं। इस बीमारी के लक्षणों की पहचान पत्तियों पर लाल-भूरे अंडाकार या लंबकार दानों से होती है, जो पत्तियों के ऊपर दिखाई देते हैं। खुले मात्रा में नमी मौजूद होती है और तापमान 20°C के पास होता है, तो यह बीमारी तेजी से फैल सकती है। यदि मौसम अनुकूल है, तो इस बीमारी के दाने हर 10-14 दिनों के बाद फिर से पैदा हो सकते हैं।

इस बीमारी की रोकथाम के लिए विभिन्न फसलों को एक साथ एक ही खेत में लगाने के तरीके का अनुसरण करें। नाइट्रोजन का अत्यधिक प्रयोग से बचाव करना चाहिए। ज़िनेब Z-78 को 400 ग्राम प्रति एकड़ या प्रोपीकोनाजोल को 2 मिलीलीटर टिल्ट 25 इसी में घोलकर, इसे छिड़कना चाहिए, जिससे भूरी कुंगी के प्रति कार्यशील बचाव किया जा सकता है।

गेहूं की खेती में पीली धारीदार कुंगी:

गेहूं की खेती Gehu ki Kheti इस बीमारी के विकास और प्रसारण के लिए 8-13 डिग्री सेल्सियस तापमान और फूलने के लिए 12-15 डिग्री सेल्सियस तापमान का होना आवश्यक है, और इनके विकास के लिए पानी की आवश्यकता नहीं होती है। इस बीमारी के कारण गेहूं की पैदावार में 5-30% तक कमी आ सकती है। इस बीमारी के कारण गेहूं के पत्तों पर पीला धब्बा दिखाई देता है, जिसमें विषाणु उपस्थित होते हैं। इन विषाणुओं के कारण पत्तों पर बारीक धारियां बनती हैं। इस बीमारी के खिलाफ निम्नलिखित कदम उठाए जा सकते हैं:

  1. कुंगी की रोधक किस्मों का प्रयोग करें।
  2. फसली चक्र और मिश्रित फसलों की विधि अपनाएं।
  3. नाइट्रोजन के अधिक प्रयोग से बचें क्योंकि इससे बीमारी का प्रसारण बढ़ सकता है।

जब इस बीमारी के लक्षण दिखाई देते हैं, तो 5-10 किलोग्राम सल्फर को प्रति एकड़ या 2 ग्राम मैनकोजेब प्रति लीटर या 2 मिलीलीटर प्रोपीकोनाजोल (टिल्ट) 25 ईसी को 1 लीटर पानी में मिलाकर छीड़काव करें।

इससे बीमारी के प्रसारण को नियंत्रित किया जा सकता है, और गेहूं की फसल की पैदावार को सुरक्षित रखा जा सकता है। समय पर रोग पहचान, प्रबंधन, और उपचार से, किसान अच्छी गेहूं की उपज प्राप्त कर सकते हैं, जिससे उनकी आय में भी सुधार हो सकता है।

गेहूं की खेती में करनाल बंट:

बीमारी से बचाव के लिए निम्नलिखित उपायों का पालन करने का सुझाव दिया जा सकता है:

  1. बीज का चयन: करनाल बंट से बचाव के लिए बीज का चयन महत्वपूर्ण होता है। विशेष रूप से उन बीजों का चयन करें जो इस बीमारी के प्रति सांवदर्भ रूप से प्रतिरोधी हों।
  2. बीमारी की समय पहचान: फसल के बालियां बनने के दौरान, यदि आपको करनाल बंट बीमारी के लक्षण दिखाई देते हैं, तो तुरंत इसकी पहचान करें और उपाय शुरू करें.
  3. बीमारी के बढ़ने को रोकें: फसल में करनाल बंट की बढ़ती कमी के लिए उपायों का पालन करें, जैसे कि प्रोपीकोनाजोल (टिल्ट) का प्रयोग करना। 2 मिलीलीटर प्रोपीकोनाजोल (टिल्ट) 25 ईसी को 1 लीटर पानी में मिलाकर छिड़काव करें.
  4. बादलवाई से बचाव: यदि उत्तरी भारत के समतल क्षेत्रों में फरवरी महीने के दौरान बारिश की संभावना हो, तो आपको बादलवाई से बचाने के लिए तैयार रहना चाहिए. उचित नियंत्रण उपायों को अपनाएं और बादलवाई की उचित जाँच करें.
  5. फसल की समय पर निपटान: करनाल बंट बीमारी के संक्रमण को कम करने के लिए अपनी फसल को समय पर काटकर सही रूप से संरक्षित कर रखें।

गेहूं की खेती में चेपा का प्रकोप और रोकथाम:

गेहूं की खेती Gehu ki Kheti में चेपा एक कीट है जो पौधों का रस पी लेती है। अगर इसकी संख्या बढ़ जाती है, तो यह पौधों के पीलापन को बढ़ा देती है और उन्हें जलाकर सूखा देती है। आमतौर पर यह जनवरी के बाद फसल के पकने समय में हमला करती है।

इसके नियंत्रण के लिए कराईसोपरला प्रीडेटर्ज़ का उपयोग किया जा सकता है, जो एक प्राणी है जो बुराईयों को खाता है। 5-8 हजार कीटों के लिए एक किलोमीटर या 50 मिलीलीटर नीम के पानी का उपयोग करें। बादलवाले दिनों में सूड़ी का हमला आरंभ होता है। 80 ग्राम थायमेथॉक्सम या 40-60 मिलीलीटर इमिडाक्लोप्रिड को 100 लीटर पानी में मिलाकर खेत के हर कोने पर छिड़काव करें।

गेहूं की खेती में दीमक का प्रकोप और रोकथाम:

गेहूं की खेती Gehu ki Kheti में दीमक पौधों के विकास के विभिन्न चरणों पर हमला करती है, जैसे की बीज के अंकुरण से लेकर पकने तक। यह दीमक पौधों की जड़ों को नुकसान पहुंचा सकती है, जिससे पत्तियाँ सुखने लगती हैं और पौधों के पकने को प्रभावित कर सकती है। अगर जड़ में नुकसान होता है, तो पौधों की बूटा पीली हो सकती है।

इसकी रोकथाम के लिए, आपको एक लीटर क्लोरपाइरीफॉस 20 ई.सी. को 20 किलो मिट्टी में मिलाकर खेत के हर कोने पर छिड़कना चाहिए और उसके बाद हलकी सिंचाई करनी चाहिए।

गेहूं की खेती में खेत के चूहे का प्रकोप और रोकथाम:

गेहूं की खेती Gehu ki Kheti में खेत के चूहे, जिन्हें सॉफ्ट फर्ड फील्ड रैट भी कहा जाता है, खेती के लिए बहुत खतरनाक हो सकता है। इन चूहों पर भूरे मुलायम बाल होते है। उनके बिल भी आसानी से पहचाने जा सकते हैं और वे पौधों के बीजों को छान लेते हैं। अगर जड़ में नुकसान होता है, तो पौधों के बूटे पीले हो सकते हैं।

इनके नियंत्रण के लिए, एक सप्ताहिक उन्मूलन कार्यक्रम का पालन करें:

  • पहले दिन – खेत की निगरानी करें और चूहों के बिलों को पहचानने के लिए लकड़ी के डंडे बंद करें।
  • दूसरे दिन – खेत में जाएं और बंद हो गए बिलों की निगरानी करें, जहाँ बिल खुल गए हो, वहाँ से लकड़ी के डंडे हटा दें, जब बिल खुले हों, तो वहाँ डंडे रखें। खुले बिल में एक हिस्सा सरसों के तेल और 48 हिस्सा बुने हुए दानों का बिना जहर के चारा रखें।
  • तीसरे दिन – बिल की पुनर्निगरानी करें और बिना जहर के चारा पुनः बिल में रखें।
  • चौथे दिन – 1.0 ग्राम जिंक फॉस्फाइड 80 प्रतिशत की मात्रा को 1.0 ग्राम सरसों के तेल और 48 ग्राम भुने हुए दानों के साथ तैयार किया गया जहरीला चारा का उपयोग करें।
  • पांचवे दिन – बिल की पुनर्निगरानी करें और मरे हुए चूहों को जमीन में दबा दें।
  • छठे दिन – बिल को पुनः बंद करें और अगले दिन अगर बिल खुल जाता है, तो इस विधि को फिर से अपनाएं।

इसके अलावा, एक और विकल्प है कि आप ब्रोमोडियोलोन 0.0005 प्रतिशत के बने चारे की 10 ग्राम मात्रा का प्रत्येक जीवित बिल में रखें। इस दवा से चूहे 3-4 बार खाने के बाद मर जाते हैं। ये उपाय चूहे के नियंत्रण में मदद कर सकते हैं और आपकी खेती को सुरक्षित रखने में मदद कर सकते हैं।

गेहूं की खेती में कटाई व भंडारण

gehu ki kheti गेहूं की खेती

गेहूं की खेती में छोटे कद की फसलों की कटाई:

गेहूं की खेती Gehu ki Kheti में छोटे कद की फसलों की कटाई आमतौर पर पत्तों और तनों के पीले होने और सूखने के बाद की जाती है। इससे होने वाले नुकसान से बचने के लिए फसल की कटाई को इसके पके हुए पौधों के सूखने से पहले करना बेहद महत्वपूर्ण है। ग्राहकों के लिए इसे स्वीकारने और उसकी गुणवत्ता को बनाए रखने के लिए फसल को सही समय पर काट लेना चाहिए।

जब दानों में 25-30 प्रतिशत नमी बच जाती है, तो यह समय सही कटाई का होता है। कद के छोटे पौधों को काटने के लिए, आपको हाथ से गेहूं काटने के समय तेज़ और धार वाली द्राती का प्रयोग करना चाहिए। कटाई के लिए कंबाइन (कृषि यंत्र) भी उपलब्ध होते हैं, जिनकी मदद से गेहूं की फसल को काटा जा सकता है, दाने निकाला जा सकता है और छांटा जा सकता है, और यह सब काम एक साथ किया जा सकता है।

गेहूं की खेती Gehu ki Kheti में फसल का भंडारण:

गेहूं की खेती Gehu ki Kheti में भंडार के दौरान विभिन्न प्रकार के कीटों और रोगों से बचाव के लिए आमतौर पर बोरियों में 1 प्रतिशत मैलाथियोन रोगाणुनाशक का प्रयोग किया जाता है। भंडार घर को अच्छी तरह साफ करें, और यह सुनिश्चित करने के लिए उपयुक्त कदम उठाएं कि कोई दरारें नहीं हैं। चूहों के बिलों को सीमेंट से भर दें।

यह भी देखेंऐसे करें जबरदस्त मुनाफेदार जौ की खेती पूरी जानकारी- बुवाई, किस्में, उर्वरक, पैदावार Jau ki kheti

दानों को भंडार करने से पहले, भंडार घर की सफाई करवाने की आवश्यकता होती है। इसके बाद, भंडार घर के 100 वर्गमीटर के परिधि में 3 लीटर मैलाथियोन 50 ई.सी. का छिड़काव करना चाहिए। बोरियों को दीवारों से 50 सेंटीमीटर की दूरी पर रखें और ढेरों के बीच कुछ खुली जगह छोड़ दें।

गेहूं की खेती के लिए पूछे जाने वाले प्रश्न

गेहूं की खेती के लिए सबसे अच्छे बीज कौनसे होते हैं?

गेहूं की खेती Gehu ki Kheti के लिए सबसे अच्छे बीज आपके भूमि के अनुसार चयन किए जाते हैं। प्रमुख प्रकारों में हार्ड वीट और सॉफ्ट वीट शामिल होते हैं, और आपके क्षेत्र में जो प्रकार सबसे अधिक सफलता प्राप्त करता है, उसे चुनें।

गेहूं की खेती के लिए भूमि तैयारी का महत्व क्या है?

भूमि तैयारी गेहूं की खेती के लिए महत्वपूर्ण है, क्योंकि यह उचित तरीके से प्राकृतिक संसाधनों का उपयोग करती है और प्रदूषण को कम करती है। भूमि तैयारी के बाद बीज बोने जा सकते हैं और पूर्व से तैयार किया गया भूमि खेत की फसल के लिए उपयुक्त होती है।

गेहूं की खेती के लिए कितना पानी की आवश्यकता होती है?

गेहूं की खेती के लिए पानी की आवश्यकता जलवायु, भूमि की श्रेणी और पैदावार के आधार पर भिन्न हो सकती है, लेकिन आमतौर पर इसके लिए प्रति हेक्टेयर 500-600 मिलीमीटर पानी की आवश्यकता होती है।

गेहूं की खेती में किस प्रकार के खरपतवारों का सामना किया जा सकता है?

गेहूं की खेती में गेहूं खराब करने वाले खरपतवारों में कीट, बीमारियाँ, और फसलों की खराबियाँ शामिल होती हैं. इनमें कीटों जैसे की गेहूं की छाल की मौड़, सिंचाई की कीट, और बीमारियों में कैरी की बीमारी शामिल हो सकती है।

गेहूं की खेती के लिए सही तरीका क्या है?

गेहूं की खेती के लिए सही तरीका शुरू से बीज चुनाव, भूमि की तैयारी, समय पर बुआई, सही सिंचाई और उर्वरक प्रबंधन सहित एक ठोस खेती योजना बनाकर सुनियोजित तरीके से खेती करना ही सही तरीका है।

KisanEkta.in एक ऐसी वेबसाईट है जहां हम किसानों को जोड़ने, शिक्षित करने और सशक्त बनाने का काम कर रहे हैं। यहां पर आपको सबसे ताजा मंडी भाव (Mandi Bhav), किसान समाचार, सरकारी योजनाओं के अपडेट और कृषि और खेती से जुड़े ज्ञान की जानकारी मिलती है। हमारा उद्देश्य है कि हम किसानों को जोड़कर उन्हें उनके काम को बेहतर बनाने के लिए जरूरी समाधान प्रदान करना है। हम अपनी कोशिशों के माध्यम से किसान समुदाय को एक साथ लाने में मदद कर रहे हैं।