गेहूं में पानी के साथ चलाओ यह खाद, कल्ले गिनते गिनते थक जाओगे सिर्फ 60 रूपए खर्चा – NPK consortia

NPK consortia

Google News

Follow Us

NPK consortia: नमस्कार किसान भाईयों!! किसी भी फसल से श्रेष्ठ पैदावार प्राप्त करने के लिए, फसलों को पूरे रूप से पोषित करने में तीन मुख्य पोषण तत्व महत्वपूर्ण होते हैं – नाइट्रोजन, फास्फोरस, और पोटाश, जो इसे आमतौर पर NPK (NPK consortia) कहा जाता है।

इन तत्वों की सही मात्रा में प्रदान करना हमारी फसल की उच्च पैदावार को सुनिश्चित करता है, और किसान भाईयों को उचित मंडी भाव दिलाने मे मदद करता है।

किसान भाइयों, हमेशा याद रखें कि अपने खेत की मिटटी की नियमित जाँच बहुत महत्वपूर्ण है। इससे हम मिटटी में किसी भी पोषक तत्व की कमी को पहचान सकते हैं और समय पर उसकी पूर्ति कर सकते हैं।

किसान कर सकते हैं NPK consortia का प्रयोग

किसान भाइयों, कृषि विशेषज्ञों का सुझाव है कि हमें फास्फोरस और पोटाश को बिजाई के समय ही मिटटी में मिलाना चाहिए, क्योंकि इसका बाद में सही तरह से प्रभाव नहीं होता। यदि हम अपनी खेती में लागत बढ़ाना चाहते हैं, तो हमें फास्फोरस और पोटाश की अधिक मात्रा में प्रदान करना चाहिए, लेकिन इसे सही मात्रा में बनाए रखना भी महत्वपूर्ण है।

अगर आप लागत को मेंटेन करना चाहते हैं, तो IFFCO कंपनी का NPK consortia एक उपयुक्त विकल्प हो सकता है, जिसमें बेक्टीरिया विशेषज्ञता का कार्य करते हैं और यह मिटटी में पड़े तत्वों को पौधों के लिए सुलभ कराते हैं।

NPK consortia क्या होता है?

NPK बोतल में ऐसे बेक्टीरिया होते हैं, जिन्हें हम Azotobacter कहते हैं। इसके साथ ही, फास्फोरस वाले बेक्टीरिया जिन्हें हम PSB कहते हैं, भी मिलते हैं, और तीसरे पोटाश वाले बेक्टीरिया जिन्हें हम KMB कहते हैं, इन्हें हमें गेहूं की फसल को पहले पानी देने के समय ही डालना चाहिए।

यह कारगर होता है क्योंकि इस समय गेहूं को फास्फोरस की सबसे अधिक जरुरत होती है।

NPK consortia कैसे काम करता है?

किसान भाइयों के लिए यह बड़ी खुशखबरी है कि अब वे गेहूं की फसल को मिटटी की कमी के बिना अधिक पोषण प्रदान कर सकते हैं। जब किसानों को बजट में कठिनाई आती है या मिटटी का pH मान बिगड़ता है, तो NPK consortia काम में आता है और फसल की पैदावार में वृद्धि होती है।

इस मौसम में हमें यह सुनिश्चित करना चाहिए कि हमारे पौधे सुरक्षित रूप से बढ़ सकें ताकि हम अधिक से अधिक पोषक तत्व प्राप्त कर सकें। यहाँ, नाइट्रोजन का महत्त्व है, जो हमारे पौधों को सही से बढ़ावा देने में मदद करता है। गेहूं के बीज से ही लेकर दानों के पकने तक, पोटाश का भी यही महत्त्वपूर्ण कार्य होता है।

NPK consortia का मुख्य कार्य है आपके खेत में मौजूद स्थिर पोषक तत्वों को सीधे पौधों को पहुंचाना, चाहे वे पिछली फसल से हों या फिर मिटटी में कुछ समय से मौजूद हों। इसे soluble बनाकर, यह सीधे तौर पर पौधों को ये पोषक तत्व प्रदान करता है।

NPK consortia को गेहूं की फसल में कैसे दें?

NPK consortia

आप इसे 150 से 200 लीटर पानी में 1 या 1.5 किलोग्राम गुड़ के साथ मिला सकते हैं और इसे ठंड के दिनों में केवल 8 दिन रोकना है। 8 दिनों के बाद, यह activate या multiply हो जाता है, जिसे आप पहले पानी के साथ मिला सकते हैं।

NPK consortia की क्या price है?

NPK consortia की कीमत केवल 60 रुपये की आधी लीटर की बोतल में है, जो 1 एकड़ के लिए पर्याप्त है। किसान भाई, 60 रुपये खर्च करके अपनी गेहूं की फसल से अच्छी पैदावार निकाल सकते हैं।

हमारे अनुसार, हर किसान को अपनी गेहूं की फसल में NPK consortia का उपयोग करना चाहिए। इसे आप पहले, दूसरे और तीसरे पानी में मिला सकते हैं, लेकिन कोशिश करें कि आप इसे पहले पानी में ही डालें, क्योंकि उस समय जड़ों और कल्लों का सबसे अधिक विकास होता है।

यह भी पढ़ें

ऐसे करें जबरदस्त मुनाफेदार गेहूं की खेती – बुआई, सिंचाई, रोग, पैदावार

KisanEkta.in एक ऐसी वेबसाईट है जहां हम किसानों को जोड़ने, शिक्षित करने और सशक्त बनाने का काम कर रहे हैं। यहां पर आपको सबसे ताजा मंडी भाव (Mandi Bhav), किसान समाचार, सरकारी योजनाओं के अपडेट और कृषि और खेती से जुड़े ज्ञान की जानकारी मिलती है। हमारा उद्देश्य है कि हम किसानों को जोड़कर उन्हें उनके काम को बेहतर बनाने के लिए जरूरी समाधान प्रदान करना है। हम अपनी कोशिशों के माध्यम से किसान समुदाय को एक साथ लाने में मदद कर रहे हैं।