Rajasthan Weather Update : राजस्थान का मौसम पलटा; चलेंगी 50 की स्पीड से हवा; यहाँ होगी भारी बारिश

Rajasthan Weather Update

Google News

Follow Us

Rajasthan Weather Update : राजस्थान के मौसम में बदलाव का अनुभव हो रहा है। आकाश में बारिश के बादल फिर से घुमने लगे हैं। मौसम विभाग के मुताबिक, आगामी दिनों में 30 से 50 किलोमीटर की रफ्तार से तेज हवाओं की संभावना है।

इसके साथ ही कई स्थानों पर बारिश और हिमपात की संभावना भी है। चलिए, नीचे दी गई खबर में देखते हैं कि मौसम कितने दिनों तक बदलता रहेगा…

कई इलाकों में बारिश और ओलावृष्टि की चेतावनी जारी

Rajasthan Weather Update : राजस्थान में मौसम फिर से अपनी अंगड़ाई ले रहा है। सर्द हवाओं और हल्की बारिश के कारण प्रदेश में फिर से सर्दी का महसूस हो रहा है। मौसम विभाग ने आगामी दो दिनों के लिए प्रदेश के कई इलाकों में बारिश और ओलावृष्टि की चेतावनी जारी की है।

मौसम में हो रहे बदलाव के बाद कई जिलों में बारिश और ओलावृष्टि के ऑरेंज और येलो अलर्ट जारी किए गए हैं। सर्द हवाओं के कारण फरवरी माह के अंत में भी सर्दी का मिजाज महसूस हो रहा है।

Rajasthan Weather Update : यहाँ मौसम 2 मार्च तक खराब

Rajasthan Weather Update वेदर रिपोर्ट के अनुसार, प्रदेश में एक तीव्र पश्चिमी विक्षोभ सक्रिय हो रहा है। इससे 1 और 2 मार्च को कुछ इलाकों में तेज मेघगर्जना, आंधी, और बारिश की संभावना है। मौसम विभाग के अनुसार, 1 मार्च को प्रदेश के कुछ भागों में एक नया पश्चिमी विक्षोभ सक्रिय होगा।

इससे 1 और 2 मार्च को जोधपुर, बीकानेर, अजमेर, जयपुर, कोटा, और भरतपुर संभाग के कुछ हिस्सों में मौसम में बड़ा बदलाव आएगा।

30 से 50 किलोमीटर प्रति घंटे से चल सकती है हवाएं

इन संभागों में पश्चिमी विक्षोभ के प्रभाव से बिजली कड़कने के साथ-साथ तेज हवाओं की चलन और बारिश की संभावना है। कहीं-कहीं ओलावृष्टि भी हो सकती है। हवा की गति इस दौरान 30 से 50 किलोमीटर प्रति घंटे तक हो सकती है।

3 मार्च को इस परिवर्तन का प्रभाव समाप्त हो जाएगा और मौसम फिर से सुखद हो जाएगा। किसानों को IMD द्वारा इस परिवर्तन के लिए अनेक सलाहें भी दी गई हैं।

किसानों को भी चेतावनी जारी

Rajasthan Weather Update : मौसम विभाग ने सुझाव दिया है कि किसान कृषि मंडियों में अनाज को सुरक्षित स्थानों पर संग्रहित करें, ताकि अचानक होने वाली बारिश से उन्हें भीगने से बचाया जा सके। इसके साथ ही, खेतों में काटी गई फसलें भी सुरक्षित स्थान पर ही भंडारित की जानी चाहिए या फिर उन्हें ढककर रखना चाहिए।

रबी की फसलों में सिंचाई और कीटनाशकों का छिड़काव बारिश की संभावनाओं के अनुसार करना चाहिए। इसके अतिरिक्त, आकाशीय बिजली के दौरान पेड़ों और खंभों से दूर रहना और सुरक्षित स्थानों पर शरण लेना अत्यंत महत्वपूर्ण है।

यह भी पढ़ें :

KisanEkta.in एक ऐसी वेबसाईट है जहां हम किसानों को जोड़ने, शिक्षित करने और सशक्त बनाने का काम कर रहे हैं। यहां पर आपको सबसे ताजा मंडी भाव (Mandi Bhav), किसान समाचार, सरकारी योजनाओं के अपडेट और कृषि और खेती से जुड़े ज्ञान की जानकारी मिलती है। हमारा उद्देश्य है कि हम किसानों को जोड़कर उन्हें उनके काम को बेहतर बनाने के लिए जरूरी समाधान प्रदान करना है। हम अपनी कोशिशों के माध्यम से किसान समुदाय को एक साथ लाने में मदद कर रहे हैं।