क्या ग्वार मे आएगी तेजी? यह रिपोर्ट देखे बिना मत बेचना अपना ग्वार – Guar Teji Mandi Report

Guar Teji Mandi Report

Google News

Follow Us

Guar Teji Mandi Report 10-03-2024 : किसान साथियो, ग्वार और ग्वार गम की कीमतों में उतार-चढ़ाव अभी भी जारी है। हालांकि, हाल ही में भाव में कुछ सुधार आया था, लेकिन अब फिर से मंदी का सामना किया जा रहा है।

औद्योगिक मांग में कमी और विदेशी बाजारों से ग्वार के आयात में कमी के कारण, कीमतों में थोड़ी नमी की संभावना है। हम नियमित रूप से अपनी वेबसाइट पर ग्वार के भाव के बारे में जानकारी अपडेट करते रहते हैं, जो कि आपको बाजार की हालत के बारे में अवगत करता है।

यदि विदेशी बाजार में कोई बदलाव होता है और ग्वार का निर्यात बढ़ता है, तो कीमतों में फिर से सुधार की संभावना है। आइए जानते हैं पूरी समीक्षा इस तेजी मंदी रिपोर्ट (Guar Teji Mandi Report 10-03-2024) में…

ये है ग्वार के मौजूदा भाव और हालात

ग्वार की मौजूदा कीमतें 4,800 रुपये प्रति क्विंटल से 5,400 रुपये प्रति क्विंटल के बीच घूम रही हैं। मार्च और अप्रैल के महीनों में, ग्वार गम और ग्वार की डिलीवरी स्टॉकियों की खरीद-बिक्री में थोड़ा सा उतार-चढ़ाव देखने को मिल रहा है।

इसका मुख्य कारण है स्टॉकियों की बिक्री में वृद्धि, जिसके कारण एनसीडीईएक्स में ग्वार की कीमतें कम हो रही हैं और यहां गिरावट का दौर चल रहा है।

घटा है ग्वार का रकबा

ग्वार का उत्पादन मुख्यत राजस्थान, हरियाणा, गुजरात, और पंजाब के कुछ क्षेत्रों में होता है। जहां मौसम ग्वार की खेती के लिए सबसे ज्यादा अनुकूल रहता है। लेकिन इस बार, बारिश की कमी के कारण ग्वार की फसलों का उत्पादन कम रहा है।

राजस्थान में उत्पादन का अधिकांश 70% से ज्यादा हिस्सा होता है, लेकिन इस बार की खेती का रकबा भी कम था। हरियाणा में, बाढ़ के कारण ग्वार की फसलें पूरी तरह से नष्ट हो गईं, जिसके कारण उत्पादन में भी बहुत ही कमी हो गई है।

इसके परिणामस्वरूप, ग्वार की आवक काफी कम दिख रही है और इसका असर बाजार में महसूस हो रहा है। इस स्थिति में, घरेलू मांग के साथ-साथ निर्यात भी बढ़ने की संभावना है, लेकिन उत्पादन की कमी के कारण यह भाव किसी भी समय गिर सकते हैं।

यूं रह सकते हैं भाव Guar Teji Mandi Report

वर्तमान स्थिति Guar Teji Mandi Report को ध्यान में रखते हुए, यहां कोई भविष्यवाणी नहीं की जा सकती कि आगे और कितनी गिरावट आएगी। जैसे ही ग्राहकों की मांग बढ़ेगी, ग्वार की कीमतें फिर से ऊपर जा सकती हैं।

फसल में कमी के कारण, वायदा बाजार में कीमतों में गिरावट भी हो सकती है। अगर बड़े स्टोक आएं, तो ग्वार की कीमतों में तेजी आ सकती है। हालांकि, औद्योगिक मांग की कमी के कारण, कीमतों में गिरावट की भी संभावना है।

व्यापारिक निर्णय लेने से पहले ध्यानपूर्वक सोचें और अपने विवेक से व्यापार करें।

यह भी पढ़ें :

KisanEkta.in एक ऐसी वेबसाईट है जहां हम किसानों को जोड़ने, शिक्षित करने और सशक्त बनाने का काम कर रहे हैं। यहां पर आपको सबसे ताजा मंडी भाव (Mandi Bhav), किसान समाचार, सरकारी योजनाओं के अपडेट और कृषि और खेती से जुड़े ज्ञान की जानकारी मिलती है। हमारा उद्देश्य है कि हम किसानों को जोड़कर उन्हें उनके काम को बेहतर बनाने के लिए जरूरी समाधान प्रदान करना है। हम अपनी कोशिशों के माध्यम से किसान समुदाय को एक साथ लाने में मदद कर रहे हैं।