Soybean Farming सोयाबीन की खेती कैसे करें? बुवाई, सिंचाई, रोग, पैदावार – पूरी जानकारी

soybean farming sowing irrigation diseases yield

Google News

Follow Us

Soybean Farming सोयाबीन की खेती कैसे करें? : सोयाबीन या ग्लाइसीन मैक्स वैज्ञानिक रूप से जानी जाती है। यह भारत में महत्वपूर्ण फसल मानी जाती है, और इसे दलहन के बजाय तिलहन की तरह देखा जाता है। सोयाबीन का उत्पादन 1985 के बाद से लगातार बढ़ता जा रहा है, और इसके तेल की मांग मूँगफली और सरसों के तेल को पीछे छोड़ रही है।

सोयाबीन एक महत्वपूर्ण खाद्य स्रोत है, जिसमें प्रमुख घटक प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट, और वसा होते हैं। इसमें लगभग 38-40 प्रतिशत प्रोटीन, 22 प्रतिशत तेल, 21 प्रतिशत कार्बोहाइड्रेट, 12 प्रतिशत नमी, और 5 प्रतिशत भस्म होता है।

दुनियाभर में Soybean Farming सोयाबीन की खेती का 60% उत्पाद अमेरिका से आता है, जबकि भारत में मध्यप्रदेश सबसे अधिक सोयाबीन उत्पादित करता है। यहाँ पर इंदौर में एक सोयाबीन रिसर्च सेंटर स्थित है।

मुख्य बिन्दु

Soybean Farming सोयाबीन की खेती – किस्म, बुवाई, बीज उपचार

Soybean Farming सोयाबीन की खेती में सही किस्म का चयन कैसे करें :

राष्ट्रीय सोयाबीन अनुसंधान केंद्र और विभिन्न कृषि विश्वविद्यालयों ने विभिन्न क्षेत्रों के लिए विशेष कृषि जलवायु और मिट्टी के लिए विकसित किस्मों का अनुसंधान किया है और उन्हें समर्थन किया है।

इस आधार पर, सोयाबीन की उचित किस्में चयनित करनी चाहिए। इन किस्मों के बीजों को लाकर आप अपने क्षेत्र में इसे बोने और उसे बढ़ावा देकर उपयोग में ला सकते है।

Soybean Farming सोयाबीन की खेती बुवाई का सही समय क्या है :

Soybean Farming सोयाबीन की खेती में बीज बोने जाने का सबसे अच्छा समय है जून के आखिरी सप्ताह से जुलाई के पहले सप्ताह तक। ध्यान रखें कि भूमि में 10 सेमी तक नमी होनी चाहिए ताकि बीज अच्छे से फैल सकें। जुलाई के पहले सप्ताह के बाद, बोने गए बीजों की मात्रा में 5-10% की वृद्धि कर देना फायदेमंद होगा।

बीज की मात्रा:

  • छोटे दाने वाली किस्मों के लिए – 70 किलोग्राम प्रति हेक्टेयर
  • मध्यम दाने वाली किस्मों के लिए – 80 किलोग्राम प्रति हेक्टेयर
  • बड़े दाने वाली किस्मों के लिए – 100 किलोग्राम प्रति हेक्टेयर

Soybean Farming सोयाबीन की खेती में बीज उपचार कैसे करें :

Soybean Farming सोयाबीन की खेती में सोयाबीन के बीजों को बोने से पहले उपचार करें। 24 घंटे के लिए, हर किलोग्राम बीज के साथ 2 ग्राम कार्बेन्डीजिम या थिरम का उपयोग करें या ट्राइकोडर्मा के टैल्क सूत्रीकरण के साथ हर किलोग्राम बीज के लिए 4 ग्राम या स्यूडोमोनस फ्लोरेसेंस का प्रयोग करें।

Soybean Farming सोयाबीन की खेती – मृदा स्वास्थ्य, खेत की तैयारी और उर्वरक

मिट्टी परिक्षण:

मिट्टी की संतुलित ऊर्वरक और मृदा स्वास्थ्य के लिए, मुख्य तत्वों में नाइट्रोजन, फॉस्फोरस, पोटाश, सल्फर, कैल्शियम, मैग्नीशियम, तांबा, लोहा, मैंगनीज, मोलिब्डेनम, बोरॉन और पीएच, ईसी, और कार्बनिक द्रव्य की परीक्षण करें।

भूमि:

Soybean Farming सोयाबीन की खेती के लिए हल्की रेतीली और हल्की भूमि से लेकर सभी प्रकार की भूमि में सफलतापूर्वक की जा सकती है, लेकिन सोयाबीन के लिए पानी निकालने वाली चिकनी दोमट भूमि अधिक उपयुक्त होती है। जहां भी खेत में पानी जमा रहता है, वहां सोयाबीन नहीं बोएं।

जलवायु:

सोयाबीन फसल के लिए सुखद गरम जलवायु की आवश्यकता होती है। इसके बीजों का अंकुरण 25 डिग्री सेल्सियस पर 4 दिन में होता है, जबकि इससे कम तापमान पर बीजों का अंकुरण 8 से 10 दिन लगता है। इसलिए, सोयाबीन की खेती के लिए 60-65 सेमी वर्षा वाले स्थानों को उपयुक्त माना जाता है।

Soybean Farming सोयाबीन की खेती में खेत की जुताई कैसे करें :

Soybean Farming सोयाबीन की खेती में वर्षा के प्रारंभ होने पर 2 या 3 बार बखर तथा पाटा चलाकर खेत को तैयार कर लेना चाहिए। इससे सभी हानिकारक कीटाणुओं की समस्त लारों को नष्ट किया जा सकता है। जहां तक संभव हो, आखिरी बखरनी और पाटा समय पर करना चाहिए ताकि अंकुरित बीजों को किसी भी कीटाणु से नुकसान ना हो।

Soybean Farming सोयाबीन की खेती में उर्वरक कैसे दें :

सोयाबीन की बुआई से पहले, खेत को तैयार करते समय, अच्छी गुणवत्ता वाले गोबर का कम्पोस्ट (सड़ी हुई) को खेत में 5 टन प्रति हेक्टेयर मिलाएं। अंतिम बखरनी के समय, खेत में इसे अच्छी तरह से मिला दें और बोने जाने पर, प्रति हेक्टेयर 20 किलो नाइट्रोजन, 60 किलो फॉस्फोरस, 20 किलो पोटाश, और 20 किलो सल्फर दें। यह मात्रा मिट्टी के परीक्षण के आधार पर समायोजित की जा सकती है।

Soybean Farming सोयाबीन की खेती में गहरी काली मिट्टी में, जिंक सल्फेट को 50 किलो ग्राम प्रति हेक्टेयर एवं उथली मिट्टी में, 25 किलो ग्राम प्रति हेक्टेयर की दर से प्रति हेक्टेयर उपयोग करें, और 5 से 6 फसलों के बाद इसका उपयोग करें।

Soybean Farming सोयाबीन की खेती – हानिकारक कीट, रोग और रोकथाम:

soybean farming sowing irrigation diseases yield
soybean farming sowing irrigation diseases yield

Soybean Farming सोयाबीन की खेती में कीट नियंत्रण

  • सफेद मक्खी:
    • सफेद मक्खी को रोकने के लिए, प्रति एकड़ में थाइमैथोक्सम 40 ग्राम या ट्राइज़ोफोस 300 मिलीलीटर की स्प्रे करें।
    • आवश्यकता होने पर, पहली स्प्रे के 10 दिनों के बाद एक और स्प्रे करें।

  • तंबाकू सुंडी:
    • यदि तंबाकू सुंडी का हमला हो, तो प्रति एकड़ में एसीफेट 57 एस पी 800 ग्राम या क्लोरपाइरीफॉस 20 ई सी को 1.5 लीटर पानी में मिलाकर स्प्रे करें।
    • जरूरत पड़ने पर, पहली स्प्रे के 10 दिनों के बाद एक और स्प्रे करें।

  • बालों वाली सुंडी:
    • बालों वाली सुंडी का हमला कम होने पर, उन्हें हाथों से उठाएं या केरोसीन में डालकर खत्म करें।
    • अगर हमला ज्यादा है, तो प्रति एकड़ में क्विनलफॉस 300 मिलीलीटर या डाइक्लोरवास 200 मिलीलीटर की स्प्रे करें।

Soybean Farming सोयाबीन की खेती में फफूंद नियंत्रण:

  • सफेद मक्खी:
    • Soybean Farming सोयाबीन की खेती में सोयाबीन के पत्तों पर होने वाले फफूंद जनित रोगों को नियंत्रित करने के लिए, प्रति लीटर पानी में 0.05 से 0.1 प्रतिशत कार्बेन्डाजिम 50 डब्लू पी या थायोफेनेट मिथाइल 70 डब्लू पी का छिड़काव करें।
    • पहला छिड़काव 30-35 दिन की अवस्था में और दूसरा छिड़काव 40-45 दिन की अवस्था में करें।

  • बैक्टीरियल पश्चयूल (रोग को नियंत्रित करने के लिए):
    • स्ट्रेप्टोसाइक्लीन या कासूगामाइसिन की 200 पीपीएम 200 मिलीग्राम; प्रति लीटर पानी के घोल के साथ कापर आक्सीक्लोराइड 0.2 (2 ग्राम प्रति लीटर) का मिश्रण का छिड़काव करें।

  • विषाणु जनित पीला मोजेक वायरस रोग और वड़ व्लाइट रोग:
    • एफिड, सफेद मक्खी, थ्रिप्स आदि द्वारा फैलने वाले रोगों की रोकथाम के लिए, स्वस्थ बीज का उपयोग करें।
    • रोग फैलाने वाले कीटाणुओं को नियंत्रित करने के लिए, प्रति किलोग्राम के लिए थायोमेथेक्जोन 70 डब्लू एवं से 3 ग्राम का उपयोग करें और 30 दिनों के अंतराल पर दोहराएं।
    • रोगी पौधों को खेत से निकाल दें और इथोफेनप्राक्स 10 ईसी 1 लीटर प्रति हेक्टेयर और थायोमिथेजेम 25 डब्लू जी, 1000 ग्राम प्रति हेक्टेयर का उपयोग करें।

Soybean Farming सोयाबीन की खेती – खरपतवार नियंत्रण और सिंचाई

Soybean Farming सोयाबीन की खेती में खरपतवार नियंत्रण:

Soybean Farming सोयाबीन की खेती में फसल के प्रारंभिक 30 से 40 दिनों तक, खरपतवारों का नियंत्रण महत्वपूर्ण है। खरपतवार दिखाई देने पर, डोरा या कुल्फा चलाकर उपायुक्त खरपतवारों का नियंत्रण करें और दूसरी बार निंदाई अंकुरण होने के 30 और 45 दिन बाद इसे दोहराएं।

15 से 20 दिन की खड़ी फसल में, क्यूजेलेफोप इथाइल का उपयोग करके खरपतवारों को नष्ट करने के लिए कदम उठाएं, या फिर घांस कुल में और कुछ चौड़ी पत्तियों वाले खरपतवारों के लिए इमेजेथाफायर का छिड़काव करें, जिसकी अनुशंसा एक लीटर प्रति हेक्टेयर की दर से की जा सकती है।

Soybean Farming सोयाबीन की खेती में सिंचाई

सोयाबीन को सिंचाई की आवश्यकता नहीं होती है, लेकिन खेत में नमी की कमी होने पर, विशेषकर खरीफ मौसम में, एक-दो बार हल्की सिंचाई करना फायदेमंद हो सकता है।

फलियों के दौरान, Soybean Farming सोयाबीन की खेती में खेत में ठंडक बनाए रखने के लिए सिंचाई की जरुरत हो सकती है, जिससे सोयाबीन अच्छे से उग सकती है। यह सुनिश्चित करने के लिए है कि सही समय पर और सही तरीके से सिंचाई की जाए, ताकि फसल को सही मात्रा में पानी मिले।

Soybean Farming सोयाबीन की खेती – कटाई और भंडारण

Soybean Farming सोयाबीन की खेती में फसल कटाई:

जब सोयाबीन की फलियां सूख जाएं और पत्तों का रंग पीला हो जाए और पत्ते गिर जाएं, तब फसल कटाई के लिए तैयार होती है। इसे हाथों से या कटाई मशीन का उपयोग करके करें। कटाई के बाद, फसल को 2-3 दिनों तक धूप में अच्छे से सुखा लें। फिर, बीजों को पूरी तरह से निकालने के लिए थ्रेसर, ट्रैक्टर, या अन्य कृषि उपकरणों का उपयोग करें।

Soybean Farming सोयाबीन की खेती में बीज भंडारण:

Soybean Farming सोयाबीन की खेती में बीजों को अच्छे से सुखाने के बाद, इन्हें धूप में अच्छे से साफ करें। छोटे आकार के बीजों, प्रभावित बीजों, और डंठलों को हटा दें। बीजों को सुरक्षित रखने के लिए उन्हें सुखी और हवादार जगहों पर भंडारित करें।

Soybean Farming सोयाबीन की खेती – सामान्य प्रश्न और उत्तर

1. सोयाबीन की फसल का सही समय क्या है?

उत्तर: सोयाबीन की खेती के लिए, जून के अंत से जुलाई के पहले सप्ताह तक का समय सबसे उपयुक्त होता है।

2. सोयाबीन के बीजों का सही उपचार क्या है?

उत्तर: बीजों को उपचारित करने के लिए, कार्बेन्डाजिम या थिरम का उपयोग किया जा सकता है।

3. सोयाबीन की सही खेती के लिए उर्वरक कैसे चुनें?

उत्तर: मिट्टी में नत्रजन, फॉस्फोरस, पोटाश, और अन्य पोषण तत्वों की मात्रा को संतुलित रखने के लिए उर्वरकों का उपयोग करें।

4. सोयाबीन की फसल में कौन-कौन से कीट प्रबंधन के उपाय हैं?

उत्तर: सोयाबीन को सफेद मक्खी, बालों वाली सुंडी, और अन्य कीटों से बचाने के लिए थाइमैथोक्सम और इमेजेथाफायर का उपयोग किया जा सकता है।

5. सोयाबीन की खेती की उचित सिंचाई कब और कैसे करें?

उत्तर: फसल के विकास के दौरान, सितंबर महीने में, यदि खेत में नमी की कमी है, तो एक या दो हल्की सिंचाई करना सुझावित है।

यह भी पढ़ें :

KisanEkta.in एक ऐसी वेबसाईट है जहां हम किसानों को जोड़ने, शिक्षित करने और सशक्त बनाने का काम कर रहे हैं। यहां पर आपको सबसे ताजा मंडी भाव (Mandi Bhav), किसान समाचार, सरकारी योजनाओं के अपडेट और कृषि और खेती से जुड़े ज्ञान की जानकारी मिलती है। हमारा उद्देश्य है कि हम किसानों को जोड़कर उन्हें उनके काम को बेहतर बनाने के लिए जरूरी समाधान प्रदान करना है। हम अपनी कोशिशों के माध्यम से किसान समुदाय को एक साथ लाने में मदद कर रहे हैं।