क्या है New MSP Formula? जिससे होगा पंजाब और मध्य प्रदेश के किसानों को घाटा, समझें यह गणित

New MSP Formula

Google News

Follow Us

New MSP Formula के अनुसार, सरकार को राज्यों के आधार पर किराए पर भूमि के मूल्य को निर्धारित करना होगा।

मान लीजिए, मुंबई या दिल्ली के आसपास की भूमि का किराया, जैसे कि ओडिशा या मणिपुर जैसे राज्यों में खेती के लिए उपयुक्त भूमि के किराए की तुलना में कई गुना अधिक हो सकता है।

स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट के अनुसार, एमएसपी लागू करने के साथ ही पंजाब के किसान अन्य मांगों के साथ आंदोलन कर रहे हैं। उन्होंने ‘दिल्ली चलो’ का नारा भी दिया है।

New MSP Formula लागू होने से किसानों को मिलेगा वही पुराना भाव

लेकिन, पंजाब और मध्य प्रदेश के किसानों को New MSP Formula C2+50% फॉर्मूला के लागू होने से किसानों को अधिक लाभ होने की संभावना नहीं है।

इसका कारण यह है कि इस नए फॉर्मूले के तहत भी किसानों को अधिकांश वही राशि मिलेगी जो कि पहले मौजूदा फॉर्मूले के अंतर्गत होती थी।

खर्चे के आधार पर तय होगी New MSP Formula में कीमत

इसके अलावा, New MSP Formula लागू होने से जटिलताएं भी उत्पन्न हो सकती हैं। क्योंकि सरकार को राज्यों में किराए के आधार पर कीमतें तय करनी होंगी। मुंबई या दिल्ली के आसपास की भूमि का किराया ओडिशा या मणिपुर जैसे राज्यों में खेती योग्य भूमि की तुलना में कई गुना अधिक है।

एक अधिकारी ने बताया, “किसी को New MSP Formula पर विचार करते समय पूरे देश की भूमि की औसत लागत या किराया पर आधारित उम्मीद नहीं करनी चाहिए। दिल्ली के नजफगढ़ में भूमि का किराया बिहार या छत्तीसगढ़ के एक गांव में भूमि की लागत या किराए से काफी अधिक होगा।”

पहले ही पंजाब मे ज्यादा है MSP

New MSP Formula
New MSP Formula

खेती लागत और मूल्य आयोग (सीएसीपी) के आंकड़ों का विश्लेषण करने पर पता चलता है कि दोनों राज्यों में किसानों को पहले से ही एमएसपी मिल रहा है जो व्यापक लागत (सी2) से 50% अधिक है।

मिसाल के रूप में, पंजाब में C2+50% फॉर्मूला लागू करने पर लागत 1,503 रुपये प्रति क्विंटल आती है। वहां, मौजूदा एमएसपी 2,275 रुपये प्रति क्विंटल है। यह व्यापक लागत (C2) या स्वामीनाथन समिति फॉर्मूले से 51% अधिक है।

इन राज्यों मे है असल नुकसान

सरकार द्वारा वर्तमान फॉर्मूले के अनुसार, पंजाब में उगाए गए गेहूं की लागत 832 रुपये प्रति क्विंटल है। विपरीत बिहार या पश्चिम बंगाल में उत्पन्न गेहूं की लागत क्रमशः 1,745 रुपये और 2,003 रुपये प्रति क्विंटल है। यह दर्शाता है कि उन्हें C2+50% फॉर्मूले के अनुसार व्यापक लागत पर 50% से कम मिल रहा है।

KisanEkta.in एक ऐसी वेबसाईट है जहां हम किसानों को जोड़ने, शिक्षित करने और सशक्त बनाने का काम कर रहे हैं। यहां पर आपको सबसे ताजा मंडी भाव (Mandi Bhav), किसान समाचार, सरकारी योजनाओं के अपडेट और कृषि और खेती से जुड़े ज्ञान की जानकारी मिलती है। हमारा उद्देश्य है कि हम किसानों को जोड़कर उन्हें उनके काम को बेहतर बनाने के लिए जरूरी समाधान प्रदान करना है। हम अपनी कोशिशों के माध्यम से किसान समुदाय को एक साथ लाने में मदद कर रहे हैं।