Garlic Price : यहाँ 400 रुपये किलो तक पहुंच गई लहसुन की कीमतें, निकाले आँसू

garlic price

Google News

Follow Us

Garlic Price : महंगाई का कहर अब लहसुन तक पहुंच गया है, जिससे लोगों का बजट हो रहा है बिगड़ता। एक चीज की सस्ती के साथ ही दूसरी चीजों कीमतें बढ़ रही हैं, और लहसुन इसी दस्तक का शिकार हो गया है।

खासकर पिछले एक हफ्ते से, लहसुन की कीमतें आसमान छू रही हैं। शुक्रवार को, ओडिशा की राजधानी भुवनेश्वर में लहसुन का किलो 400 रुपये की कीमत पर पहुंच गया है। इससे किचन खर्च में बड़ी गिरावट हो रही है।

महंगाई के चलते कई परिवारों ने लहसुन खरीदना ही बंद कर दिया है। कहा जा रहा है कि ओडिशा में पिछले एक महीने की तुलना में इस हफ्ते लहसुन की कीमत दोगुनी हो गई है।

Garlic Price : लहसुन की कीमत में वृद्धि: भुवनेश्वर में सबसे महंगा बिका लहसुन

द न्यू इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार, भुवनेश्वर के एगिनिया मंडी में शुक्रवार को लहसुन ने सबसे अधिक महंगा बिकाया। इस मंडी को छोड़कर राज्य भर में लहसुन का थोक मूल्य Garlic Price 350 रुपये से 370 रुपये प्रति किलो तक बढ़ा है, जैसा कि दर्जा किया गया है।

विक्रेताओं ने बताया कि राज्य में लहसुन की कम आपूर्ति के कारण पिछले एक महीने से कीमतों Garlic Price में बढ़ोतरी हुई है। व्यापारियों ने कहा कि डिमांड को पूरा करने के लिए वे गुजरात, राजस्थान, उत्तर प्रदेश, और मध्य प्रदेश से लहसुन की सप्लाई कर रहे हैं।

कीमतों Garlic Price में गिरावट की कब उम्मीद? यहां है जवाब

भुवनेश्वर के एगिनिया मंडी के महासचिव, शक्ति शंकर मिश्रा ने बताया कि पिछले साल के बेमौसम बारिश के कारण उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश में लहसुन की पूरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गई थी, जिससे आपूर्ति में भारी कमी आई।

मिश्रा ने बताया कि नई फसल की कटाई में देरी ने हालात को और भी खराब कर दिया है। इसके बावजूद, किसानों ने लहसुन की फसल को दोबारा बोना है, लेकिन फसल को तैयार होने में अब और 15 दिन का समय लगेगा। मिश्रा ने बताया कि नई फसल फरवरी महीने के अंत तक स्थानीय बाजारों में आ सकती है, और इसके बाद कीमतों Garlic Price में गिरावट की उम्मीद है।

लहसुन की खपत: एगिनिया मंडी में रोज 20 से 40 टन बिकता है

शक्ति शंकर मिश्रा ने बताया कि एगिनिया मंडी ओडिशा की सबसे बड़ी मंडी है और यहां से कई जिलों में लहसुन की सप्लाई होती है। एगिनिया बाजार में रोज 20 से 40 टन लहसुन की खपत होती है।

वहीं, कटक के छत्र बाजार में विक्रेताओं को दोहरी समस्या का सामना करना पड़ रहा है। इन्हें तो लहसुन का स्टॉक कम मिल रहा हो, लेकिन कीमतों Garlic Price की बढ़ोतरी के कारण इसका बड़ा हिस्सा बिना बिक रहा है

स्टॉक में बढ़त, महंगाई के कारण खरीदारी में कमी

छत्र बाजार ब्याबसायी संघ के सचिव, देबेंद्र साहू ने बताया कि पहले रोजाना छत्र बाजार में 40 से 50 टन लहसुन की आवक होती थी, लेकिन अब स्टॉक घटकर 10 से 20 टन रह गया है।

उन्होंने कहा कि महंगाई के कारण बहुत से लोग लहसुन की खरीदारी नहीं कर रहे हैं और इसके कारण स्टॉक में पड़े-पड़े लहसुन सड़ रहे हैं। उनके अनुसार, इस स्थिति में और 20 से 25 दिनों तक स्थिति ऐसी ही रहेगी, लेकिन इसके बाद की कीमतों Garlic Price में सुधार हो सकता है।

यह भी पढ़ें :

KisanEkta.in एक ऐसी वेबसाईट है जहां हम किसानों को जोड़ने, शिक्षित करने और सशक्त बनाने का काम कर रहे हैं। यहां पर आपको सबसे ताजा मंडी भाव (Mandi Bhav), किसान समाचार, सरकारी योजनाओं के अपडेट और कृषि और खेती से जुड़े ज्ञान की जानकारी मिलती है। हमारा उद्देश्य है कि हम किसानों को जोड़कर उन्हें उनके काम को बेहतर बनाने के लिए जरूरी समाधान प्रदान करना है। हम अपनी कोशिशों के माध्यम से किसान समुदाय को एक साथ लाने में मदद कर रहे हैं।