अब मात्र 100 रुपये में ड्रोन से यूरिया का छिड़काव, यहाँ कराओ पंजीकरण – Agriculture Drone

Agriculture Drone urea scheme

Google News

Follow Us

Agriculture Drone : सरकार ने किसानों को सस्ती दरों पर ड्रोन के माध्यम से यूरिया छिड़काव करने के लिए एक नई योजना शुरू की है। इस कदम से सरकार उच्च उत्पादकता और कम लागत में फसल उत्पादन को प्रोत्साहित करने का मकसद रख रही है, साथ ही किसानों को यूरिया सहित दवाओं के साथ सटीकता और आसानी से छिड़काव करने का एक नया तरीका प्रदान कर रही है।

इस योजना के तहत, किसान अब ड्रोन Agriculture Drone का उपयोग करके अपनी खेतों में यूरिया छिड़काव कर सकेंगे, जिससे उन्हें बेहतर उत्पादकता और उच्चतम लागत उपयोगी होगी।

Agriculture Drone से यूरिया छिड़काव के लिए किसान पंजीयन

सरकार ने किसानों के हित में एक महत्वपूर्ण कदम उठाया है, जिसमें यूरिया के छिड़काव में Agriculture Drone तकनीक को उपलब्ध कराने का निर्णय लिया गया है। कृषि विभाग के अधिकारियों को इसे हर किसान के खेतों तक पहुंचाने के लिए निर्देश दिए गए हैं।

जिससे किसानों को नैनो यूरिया के छिड़काव को आसानी से करने में मदद मिलेगी। यह एक ऐतिहासिक कदम है जो किसानों को उनके कृषि अनुभव को सुधारने और उत्पादकता में वृद्धि करने के लिए कृषि तकनीक के साथ सशक्तिकरण करेगा।

किसान को देना होगा प्रति एकड़ देनी होगी मात्र 100 रुपये की राशि

कृषि विभाग के एक सरकारी प्रवक्ता ने जानकारी दी है कि किसानों को Agriculture Drone से छिड़काव के लिए प्रति एकड़ पर सौ रुपये का शुल्क देना होगा। इसका मतलब है कि यदि कोई किसान पांच एकड़ में छिड़काव करना चाहता है, तो उसे पांच सौ रुपये का शुल्क देना होगा।

इस सेवा को कृषि विभाग द्वारा निशुल्क उपलब्ध कराया जा रहा है, जिससे किसानों को Agriculture Drone तकनीक के माध्यम से यूरिया छिड़काव करने में सहायता मिलेगी।

समय के इस दौरान, किसान सरसों और गेहूं में यूरिया छिड़काव कर रहे हैं, जबकि बहुत से किसान नैनो यूरिया का भी उपयोग कर रहे हैं। विभाग द्वारा नैनो यूरिया भी किसानों के लिए उपलब्ध कराया जा रहा है।

सरकार ने इस तकनीक को जल्दी से प्रत्येक जिले के किसानों तक पहुंचाने का लक्ष्य निर्धारित किया है। इससे किसानों को उनकी खेतों में यूरिया छिड़काव करने के लिए नवीन और सुधारित तकनीकों का सीधा लाभ होगा।

ड्रोन से यूरिया छिड़काव से होगा किसानों को यह लाभ

Agriculture Drone urea scheme

Agriculture Drone को एक बार में 10 लीटर तक की तरल पदार्थ लेकर उड़ा सकते हैं, जिससे खेतों में आसानी से स्प्रे किया जा सकता है। इससे यूरिया के छिड़काव को एक ही स्थान पर खड़े होकर किया जा सकता है, और इसका परिणामस्वरूप खेतों में अधिक दूरी तक पहुंचाया जा सकता है।

Agriculture Drone की सहायता से फसलों में स्प्रे करने से हरित यानी पर्यावरण को कम और मानव स्वास्थ्य को सुरक्षित रखने में मदद मिलती है। एक दिन में किसान 20 से 25 एकड़ में आसानी से कीटनाशक स्प्रे कर सकता है, जिससे काम की गति भी बढ़ सकती है।

इसके अलावा, खेतों में स्प्रे करते समय किसान को जहरीले जीव जन्तु के काटने का खतरा नहीं रहेगा और वह फसल के बीच जाने की जरूरत भी नहीं होगी, जिससे फसल टूटने का कोई खतरा नहीं होगा।

किसानों को Agriculture Drone से यूरिया छिड़काव के लिए किया जाएगा जागरूक

इस Agriculture Drone योजना को अधिक से अधिक किसानों तक पहुंचाने का दायित्व कृषि विभाग को सौंपा गया है। विभाग के अधिकारी हर गांव तक पहुंचकर किसानों को योजना के बारे में जानकारी प्रदान करेंगे और उन्हें यूरिया और नैनो यूरिया के छिड़काव के लाभ के बारे में समझाएंगे।

इससे किसानों का छिड़काव करने में लगने वाला समय कम होगा। प्रत्येक जिले में किसानों को जागरूक करने के लिए गांव स्तर पर तैनात एडीओ Agriculture Drone प्रचार कर रहे हैं।

किसान ड्रोन से यूरिया छिड़काव के लिए पंजीयन कहाँ करें?

हरियाणा में ‘मेरी फसल, मेरा ब्यौरा’ पोर्टल ने 2023-24 के अगस्त महीने तक खरीफ फसल के लिए 8.87 लाख किसानों के पंजीकरण को पूरा किया है। प्रदेश की 60.40 लाख एकड़ भूमि का पंजीकरण पोर्टल पर संपन्न हो चुका है।

हाल ही में एक सरकारी प्रवक्ता ने बताया कि सरकार Agriculture Drone के साथ नैनो यूरिया के छिड़काव को बड़े पैमाने पर करने की तैयारी कर रही है और इससे सभी किसानों को इस नई तकनीक का लाभ उठाने का अवसर मिलेगा।

किसानों को नैनो यूरिया के लिए ऑनलाइन पंजीकरण कराने के लिए निम्नलिखित कदमों का पालन करना होगा:

  1. पोर्टल पर प्रवेश: मेरी फसल मेरा ब्यौरा के पोर्टल पर जाएं।
  2. पंजीकरण: पोर्टल में जाकर, “पंजीकरण” या “Register” सेक्शन में जाएं।
  3. मोबाइल या सीएससी सेंटर पंजीकरण: आप या तो अपने मोबाइल से आत्म-पंजीकरण कर सकते हैं या आपके नजदीकी सीएससी सेंटर में जाकर पंजीकरण करवा सकते हैं।
  4. पंजीकरण प्रक्रिया: पंजीकरण प्रक्रिया के दौरान, आपको आवश्यक जानकारी जैसे कि नाम, पता, और खेतों के बारे में विवरण प्रदान करना होगा।
  5. नैनो यूरिया के लिए आवेदन: पंजीकरण के दौरान, आपको नैनो यूरिया के लिए आवेदन करने का विकल्प मिलेगा। इसके लिए आवश्यक आवेदन फॉर्म भरें।
  6. फीस जमा करें: ऑनलाइन आवेदन के साथ ही, आपको निर्दिष्ट फीस भी जमा करनी होगी। आप आवेदन फीस को ऑनलाइन भुगतान के माध्यम से जमा कर सकते हैं।
  7. पंजीकृत किसान को लाभ: सफल पंजीकरण के बाद, आप नैनो यूरिया की सुविधा से लाभान्वित हो सकते हैं।

सावधानी: सही और पूरी जानकारी के लिए हमेशा सरकारी या प्राधिकृत स्रोतों की जाँच करें और ऑनलाइन आवेदन प्रक्रिया को सही रूप से पूरा करें।

यह भी पढ़ें :

KisanEkta.in एक ऐसी वेबसाईट है जहां हम किसानों को जोड़ने, शिक्षित करने और सशक्त बनाने का काम कर रहे हैं। यहां पर आपको सबसे ताजा मंडी भाव (Mandi Bhav), किसान समाचार, सरकारी योजनाओं के अपडेट और कृषि और खेती से जुड़े ज्ञान की जानकारी मिलती है। हमारा उद्देश्य है कि हम किसानों को जोड़कर उन्हें उनके काम को बेहतर बनाने के लिए जरूरी समाधान प्रदान करना है। हम अपनी कोशिशों के माध्यम से किसान समुदाय को एक साथ लाने में मदद कर रहे हैं।